मुकेश सिंह मोंटी - लॉकडाउन के दौर में सहयोगात्मक रवैया अपनाये रखें, सामाजिक तौर पर अलग रहकर करें निर्धन वर्ग की सहायता

कोरोना महामारी केवल भारत में आई विपदा नहीं है, अपितु एक वैश्विक समस्या के तौर पर सबके सामने खड़ी है. अलग अलग देश अपने अपने तरीके से इस पर काबू पाने की कोशिश में लगे हैं और इटली, ईरान जैसे बहुत से देश इसका महा प्रकोप झेल रहे हैं. ऐसे में हमारी भारतीय सरकार ने हम सभी नागरिकों पर भरोसा करके हमें सामाजिक रूप से अलग रहने की जिम्मेदारी दी है, हमें सजग और सतर्क रहने के लिए कहा है, जिसके लिए सरकार ने देश भर में लॉकडाउन किया हुआ है. 21 दिन का यह लॉकडाउन तय करेगा कि हमारे देश का भविष्य क्या होगा? इसीलिए आप सभी से करबद्ध अपील है कि सावधानी और जागरूकता से इस वायरस को मात दें. सभी को दूर से ही सलाम, नमस्ते करें और मास्क का उपयोग करें.

इसके साथ ही आप सभी से आग्रह है कि कोरोना के चलते केवल 50 फीसदी सफाईकर्मी ही कार्य कर रहे हैं, इस स्थिति को समझते हुए आप स्वयं ही अपने घर के आस पास सफाई का ध्यान रखें. क्योंकि सफाईकर्मी भी हमारे और आपके सामान इन्सान हैं और उनका भी परिवार है. इसलिए अपने घर व घर के आस पास आप स्वयं भी सफाई व्यवस्था बनाकर रखें. यह शहर, यह देश हमारा है, इसलिए यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि स्वच्छता पर ध्यान दें.

अंततः आप सभी लोगों से अनुरोध है कि यदि आप समर्थ हों तो अपने घर पर एक आदमी का भोजन अतिरिक्त बनवाने का प्रयास करे और उस भोजन को एक व्यक्ति लेकर पुलिस और सिविल डिफेंस के कर्मी की सहायता से दैनिक मजदूरी करने वाले लोग या जरूरतमंद को पहुंचने का प्रयास करें ताकि कोई भी इंसान भूखा ना सोने पाए. ऐसा सब का प्रयास होना चाहिए इससे किसी के ऊपर कोई बोझ भी नहीं रहेगा और सबकी सहायता भी हो सकेगी. साथ ही समूहों में खड़े नहीं रहे और अपने घरों में ही रहे ताकि सब सकुशल रहे. तभी हम सभी मिलकर 21 दिन के इस युद्ध को जीत पाएंगे और कोरोना को मात देंगे.

"जय हिंद", "जय भारत"
आपका पार्षद
मुकेश सिंह मोंटी

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.